शनिवार, 1 जनवरी 2011

नया साल आज सुबह होते ही पुराना हो गया

अङ्ग्रेज़ी नववर्ष का आज का नया दिन अब बासी हो चुका है।मेरी बात का अगर बुरा लगा हो तो किसी को Happy New Year कहकर देखिए।वो यही सोचेगा कि रात में 12 बजे wish करने के बजाय ये अभी wish कर रहा है इतनी देर बाद।
मेरे कहने का सीधा सा अर्थ यही है कि ये विदेशी नववर्ष मनता भी इस तरीके से है कि सुबह होते-होते ये बासी हो चुका होता है।सुबह किसी को अगर आप wish करेंगे तो वो सोचेगा कि इसने इतना विलंब इसलिए किया क्योंकि ये मुझसे कम स्नेह रखता है।
ये विदेशी नववर्ष को भारतीय युवा मनाते भी है बिल्कुल विदेशी बनकर ही।रात के 12 बजे नहीं कि इस तरह से शोर मचाने लगे जैसे भूकंप आ गया हो और सब शोर मचाते हुए अपने घरों से बाहर निकल रहे हों।इतनी तीव्र ध्वनि वाले कानफाडू पटाखे फोड़ने लगे कि कुंभकर्ण की भी नींद टूट जाय।इन विदेशी अङ्ग्रेज़ी रंग में रंगे लोगों की खुशी भी विदेशी पेय कोका-कोला या पेप्सी जैसा है।।एक बार अगर हिला दो तो बस पल भर में ही फुस्स-स्स-स से सारा बाहर आ जाता है फिर सब कुछ खत्म।सारी खुशी खत्म। बोतल तो खाली हो जाता है लेकिन बाहर जो कोका-कोला बिखरता है वो जहां-जहां,जिस-जिस जगह पर पड़ता है उसे गंदा कर देता है जो फिर अन्य लोगों की परेशानी को बढ़ा देता है।
कहने का तात्पर्य ये है कि जहाँ इन्हें सूर्योदय से पहले उठकर नहा-धोकर पूजा-पाठ आदि शुभ कर्म के द्वारा नए साल की शुरुआत करनी चाहिए और शांतिपूर्वक सभ्य तरीके से खुशी मनानी चाहिए जिससे उन्हें क्षणभंगुर और मिथ्या खुशी के बजाय दीर्घकालीक और सच्ची खुशी प्राप्त हो और दूसरे को भी कोई हानि ना हो;वहाँ ये रात भर नाच लेते हैं,गला फाड़कर चिल्ला लेते हैं फिर सुबह 10 बजे तक सोते रहते हैं।और सुबह जब उठते हैं तो फिर नए साल की ना तो कोई खुशी रहती है और ना ही उसे मनाने की कोई उमंग क्योंकि सारा खुशी और उमंग तो रात में ही खत्म कर चुके होते है।साल का ये नया दिन इनके लिए पुराना दिन बन चुका होता है क्योंकि रात को ही नया साल मना लेने के कारण दिन में फिर इन्हें एहसास ही नहीं हो पाता है कि आज नया साल का नया दिन है।

कैसी परंपरा है ये कि सुबह सुबह भी किसी को नए साल की शुभकामना संदेश देने में शर्म आती है क्योंकि सुबह होते होते बासी हो चुका होता है नया साल का नया दिन!!!

4 टिप्‍पणियां:

  1. सही कह रहें है आप खैर आपको देर ही सही नव वर्ष की बहुत-बहुत बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हा....ह...
    मुझे इस नए साल की बधाई नहीं चाहिए मिथिलेश जी मैं तो बेशब्री से अपने भारतीय नववर्ष की प्रतीक्षा कर रहा हूँ।ये लेख तो बस अङ्ग्रेज़ी नववर्ष की औकात दिखाने के लिए मैंने लिखी है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. aap sachche hindustani hai ye dekh kar bahut khusi hui awyaleek ji dhanyawad

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही कहा आपने ।अँग्रेजी महिना जिसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है तो हमलोग १ जनवरी को क्यों नववर्ष मनायें ।

    उत्तर देंहटाएं